Shohar Se Apni Baat Manwane Ka Amal In Hindi

Shohar Se Apni Baat Manwane Ka Amal In Hindi

Shohar Se Apni Baat Manwane Ka Amal In Hindi ,” क्या आपके पति आपकी बात नहीं मानते? क्या आप अपने पति से अपनी बात मनवाना चाहते है? क्या आपके पति और आपके बीच पहले जैसा प्यार नहीं रहा? क्या आपको लगता है कि आपके और आपके पति के बीच कोई तीसरा आ गया? क्या आपका जीवनसाथी आपकी बात नहीं सुनता? क्या आपके और उनके बीच हमेशा तकरार होती रहती है?

यदि ऐसा है तो आप अपने पति के वशीकरण के लिए कुछ उपाय अपनाकर जीवन को पहले जैसा बना सकती हैं। इस लेख के जरिये हम आपको बता रहे हैं कुछ ऐसे ही उपाय जिनसे आप फिर से अपने ति का प्यार पा सकती हैं।

1. चोटी के बाल गुप्त स्थान पर रखें

ऐसा करने से आपके पति की बुद्धि का सुधार होगा और वह आपकी बात मानने लगेंगे। कुछ दिन बाद इन बालों को जलाकर अपने पैरों से कुचलकर घर से बाहर फेंक दें। यदि यह प्रयोग मासिक धर्म के समय किया जाए तो ज्यादा कारगर सिद्ध होगा।

2. लौंग पर 21 बार फूंक मारे

शनिवार की अर्ध रात्रि में सात लौंग लेकर उस पर 21 बार अपने पति का नाम लेकर फूंक मारें और अगले रविवार को इनको आग में जला दें। यह प्रयोग लगातार सात बार करने से पति के अलावा अन्य किसी का भी वशीकरणकिया जा सकता है। प्रयोग पूरा होने के दो से तीन हफ्ते बाद आपको इसका असर दिखाई देने लगेगा।

3. शयनकक्ष में गूगल की धूनी दें

अगर आपके पति किसी अन्य स्त्री पर आसक्त हैं और आपको अपशब्द बोलने के साथ ही लड़ाई-झगड़ा करते हैं। तो हर रविवार को शाम के समय अपने घर और शयनकक्ष में गूगल की धूनी दें। धूनी करने से पहले उस सत्री का नाम लें और यह कामना करें कि आपके पति उसके चक्कर से शीघ्र ही छूट जाएं। श्रद्धा और विश्वास के साथ करने से आपको लाभ मिलेगा।

4. एक महीने तक करें यह जाप

शुक्ल पक्ष के पहले रविवार को प्रात: कालीन बेला में स्नान करने के बाद अपने पूजन स्थल पर आएं। एक थाली में केसर से स्वस्तिक बनाकर गंगाजल से धुला हुआ मोती शंख स्थापित करें। अब गंधक, फूल और बताशे आदि से इसका पूजन करें।

5. एक महीने तक करें यह जाप

पूजन में गाय के घी का दीपक जलाना जरूरी है। अब स्फटिक की माला लेकर ‘ऊं हृीं वांछितं मे वशमानय स्वाहा’ का जाप करें। प्रतिदिन एक माला का जाप एक माह तक करने से किसी का भी वशीकरण कामयाब हो सकता है।

6. 43 दिन तक करें चंडी स्त्रोत का पाठ

एक पान का पत्ता लेकर उस पर चंदन और केसर का पाउडर मिला कर रखें। अब लाल कपड़े पर मां दुर्गा की प्रतिमा स्थापित करें और पान को मां के चरणों में रखें। मां दुर्गा की फोटो के सामने बैठकर चंडी स्त्रोत का 43 दिन तक पाठ करें। पाठ करने के बाद पान के पत्ते में रखे चंदन और केसर पाउडर का तिलक अपने माथे पर लगायें।

7. 43 दिन तक करें चंडी स्त्रोत का पाठ

तिलक लगाने के बाद अपने पति के पास जाये। यदि उस समय आपके पति न हो तो उनकी फोटो के सामने जा सकते हैं। पान का पत्ता प्रतिदिन नया लें। याद रखें यह पत्ता कटा हुआ नहीं होना चाहिए। इसके साथ ही यह प्रयोग केवल शुक्ल पक्ष में करना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *